लोन न चुका पाने पर क्या होता है? जानिये emi न दे तो क्या होगा!

जानिए क्या होता है जब आप अपने लोन को चुकाने में असफल हो जाते हैं!

अमीर व्यवसायी से लेकर गरीब व्यक्ति तक, हर कोई विभिन्न उद्देश्यों के लिए लोन लेता है। ऐसी स्थितियाँ होंगी जहाँ हमें अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए ऋण लेना पड़ता है जब हमारे पास बड़ी रकम नहीं होती है।
loan-emi-na-chuka-pane-par-kya




लोन आपको एक निश्चित अवधि तक ब्याज की निश्चित दर के साथ आसान मासिक किस्तों (emi) में चुकाने में सक्षम बनाता है। हालांकि, जीवन हमेशा एक जैसा नहीं होता है। आप अपने आप को मुश्किल परिस्थितियों में पा सकते हैं, जैसे कि बेरोजगारी, दुर्घटना, स्वास्थ्य समस्याएं आदि। ऐसी परिस्थितियों में, क्या होता है जब आप अपने ऋणों को चुकाने का जोखिम नहीं उठा सकते हैं?

लोन न चुका पाने पर ये हो सकता है - लोन डिफ़ॉल्ट के परिणाम :

किसी भी लोन के EMI नहीं देने पर, ऋणदाता या बैंक आपसे फ़ोन या ईमेल के माध्यम से संपर्क करेंगे। लगातार तीन महीने से अधिक समय तक अपने emi को चुकाने में विफलता, बैंक को आपके खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के लिए प्रेरित करती है। ओवरड्यू भी ज्यादा हो जाता है जिसमे ब्याज पे भी ब्याज लगेगा और यह बोझ बन सकता है।

उधार देने वाली बैंक या संस्थाएँ आपके द्वारा लिए गए लोन की जानकारी 'क्रेडिट ब्यूरो' को भेजती हैं जो सभी का 'सिबिल स्कोर' मेन्टेन करती है। लोन नहीं चुकाने पे आपकी क्रेडिट रिपोर्ट पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और भविष्य में लोन लेने के लिए आपकी पात्रता कम हो जाएगी।

बाइक या कार लोन न चुका पाने पर : 

कार, बाइक या अन्य ऑटोमोबाइल लोन चुकाने में विफलता के परिणामस्वरूप उस कार, बाइक आदि को जब्त कर लिया जाएगा।

पर्सनल लोन न चुका पाने पर : 

बैंकों के लिए पर्सनल लोन असुरक्षित लोन होते हैं और इस लोन का भुगतान ना करने पर बैंक उधारकर्ता के खिलाफ आपराधिक या सिविल मुकदमा दायर करेंगे।



होम लोन के लिए: होम लोन न चुकाने पर बैंक द्वारा कानूनी प्रक्रिया को पूरा करने के बाद आपकी संपत्ति को नीलाम किया जाता है।

गोल्ड लोन के लिए: आम तौर पर, चुकौती की अधिकतम अवधि 12 महीने की होती है, और यदि आप राशि का भुगतान करने में असमर्थ हैं तब बैंक या ऋणदाता आपके सोने की नीलामी कर सकता है।

लोन न चुका पाने पर क्या करें?

सबसे पहले बैंक से संपर्क करें और उन्हें लोन चुकाने में आपकी अक्षमता के बारे में और पुनर्भुगतान में अपनी दुविधा को समझा सकते हैं। जिसके बाद, बैंक आपको उस ऋण को क्लियर करने के तरीके सुझाएंगे। आप उनसे अपने लोन की EMI कम करने और लोन चुकाने का कार्यकाल बढ़ाने का अनुरोध कर सकते हैं।



आप सेटलमेंट का विकल्प चुन सकते जब आपके लोन पे लगा ब्याज मूलधन से अधिक हो तो। लेकिन, यह आपके सिबिल स्कोर को प्रभावित करेगा।

एक वकील से कानूनी मदद लें जब आप अपनी संपत्ति के पुनर्वितरण के लिए मुकदमे का सामना करने के लिए मजबूर हों।

किसी भी लोन को लेने से पहले, यह देखें कि आप अपनी होने वाली कमाई से लोन का पुनर्भुगतान का प्रबंधन कर सकते हैं या नहीं।

संबंधित जानकारियाँ-






अगर आपके पास कोई प्रश्न है, तो निचे Comment करें। यदि आप इस Article को उपयोगी पाते हैं, तो इसे अपने दोस्तों के साथ Share करें।


लोन न चुका पाने पर क्या होता है? जानिये emi न दे तो क्या होगा! लोन न चुका पाने पर क्या होता है? जानिये emi न दे तो क्या होगा! Reviewed by AwarenessBOX on 12:28 Rating: 5

8 comments

  1. Write off two wheeler loan ki emi dene ke baad, noc mil jaayega?

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमतौर पे ऐसा नहीं होता.

      Delete
    2. Right off ko kaise hta skte hai mujhe jma krna hai kaise hoga pls bataye

      Delete
    3. जब आप बकाया राशी का भुगतान करेंगे, तो ऋणदाता से एक NOC प्राप्त करें, जिसमें लिखा गया होगा कि अब आप पर उनका कुछ भी बकाया नहीं है। ऋणदाता से उसी NOC रिपोर्ट को CIBIL को रिपोर्ट करने का अनुरोध करें।

      Delete
    4. मेने बेंक से पसनल लोन लिया है जो कि विना इन्सोनस का है अगर किसी कारण वस मेरी मोत हो जाती है तो क्या बैंक मेरी पत्नी से लोन का पेसा लेगा।

      Delete
  2. Agar koi makaan per lone hai to kya uska kharij dakhil ho jayega

    ReplyDelete
  3. MENE EDUCATION LOAN LIYA THA LEKIN ME USE CHUKANE ME ASMARTH HU OR 100000 KA 700000 LAKH HO GYA IS CASE ME MKYA KARU

    ReplyDelete
  4. Sir ji mene tata ace gadi li thi pr gadi ki yurin tanki garenti me hi khrab ho gyi or tin mhine se khdi hai pr kist magne vale paresan kr rhe h toh kya kre samaj nhi aa rha pliss selyusen de

    ReplyDelete

Share