सरस्वती प्रार्थना | Popular Saraswati prayers in hindi (lyrics)

सरस्वती माता की प्रचलित प्रार्थनायें | Saraswati Prayers


विद्या वो गुण है, जो हम देखने, सुनने या पढ़ने के माध्यम से प्राप्त करते है। इसके लिए हिन्दू धर्म मानाने वाले माता सरस्वती की उपासना प्रार्थना, वंदना और मंत्र उच्चारण करके करतें है। सरस्वती प्रार्थना एक महत्वपूर्ण हिंदू प्रार्थना है, जिसे ज्ञान और समझ के लिए गाया जाता है। यह विद्यालयों मे गायी जाने वाली लोकप्रिय गीत होतीं है। ये प्रचलित प्रार्थनायें यहाँ दी गई है.

saraswati prayer

माँ सरस्वती बहुत ही कोमल और सरल स्वाभाव की मानी जाती है जो की सफ़ेद रंग की साड़ी पहनती है और कमल के फूल के उपर विराजमान है। सरस्वती माँ के चार हाथों में से एक में पुस्तक तो एक में माला, एक में पानी का कमंडल और एक में वीणा होती है। इनके हाथों में पुस्तक वेदों को दर्शाती है। स्वान पक्षी इनके पैरों के पास होता है। यह एक पवित्र पक्षी है, जो दूध और पानी के मिश्रण से सिर्फ दूध पीता है।

प्रचलित सरस्वती प्रार्थनायें | Saraswati Prayer  :





1. माँ शारदे ! कहाँ तू वीणा बजा रही हैं, किस मंजु ज्ञान......

माँ शारदे ! कहाँ तू वीणा बजा रही हैं,
 किस मंजु ज्ञान से तू जग को लुभा रही हैं,
 किस भाव में भवानी तू मग्न हो रही है,
 विनती नहीं हमारी तू क्यों माँ सुन रही है,
 हम दीन बाल कब से विनती सुना रहें हैं,
 चरणों में तेरे माता हम सिर झुका रहे हैं,
 अज्ञान तुम हमारा माँ शीघ्र दूर कर दो,
 द्रुत ज्ञान शुभ्र हममें ओ वीणापाणि भर दो,
 बालक सभी जगत के सूत मातु हैं तुम्हारे,
 प्राणों से प्रिय तुम्हें हम पुत्र सब दुलारे,
 हमको दयामयी ले निज गोद में पढाओ,
 अमृत जगत का हमको माँ शारदा पिलाओ,
 मातेश्वरी ! सुनो अब सुंदर विनय हमारी,
 कर दया दृष्टी हर लो , बाधा जगत की सारी।


2. माता सरस्वती, शारदा । हे माता सरस्वती, शारदा.....

माता सरस्वती, शारदा ।
हे माता सरस्वती, शारदा ।।
विद्यादानी दयानी दुःखहरिणी
जगतजननी ज्वालामुखी
माता सरस्वती, शारदा ।।
हे माता सरस्वती, शारदा ।।
कीजे सुदृष्टि सेवक जान अपना
इतना वरदान दीजे
तान ताल और आलाप
बुद्धि अलङ्कार, शारदा ।।
हे माता सरस्वती, शारदा ।।

- यह हिन्दी फिल्म 'आलाप' में गाया गया है.




3. हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी, अम्ब विमल मति दे......

हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी
अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे ।।
जग सिरमौर बनाएं भारत,
वह बल विक्रम दे। वह बल विक्रम दे ।।
हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी
अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे ।।
साहस शील हृदय में भर दे,
जीवन त्याग-तपोमर कर दे,
संयम सत्य स्नेह का वर दे,
स्वाभिमान भर दे। स्वाभिमान भर दे ।।1।।
हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी
अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे ।।
लव, कुश, ध्रुव, प्रहलाद बनें हम
मानवता का त्रास हरें हम,
सीता, सावित्री, दुर्गा मां,
फिर घर-घर भर दे। फिर घर-घर भर दे ।।2।।
हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी
अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे ।।


4. वर दे, वीणावादिनि वर दे ! प्रिय स्वतंत्र-रव अमृत-मंत्र नव......

वर दे, वीणावादिनि वर दे !
प्रिय स्वतंत्र-रव अमृत-मंत्र नव
 भारत में भर दे ।।1।।
काट अंध-उर के बंधन-स्तर
बहा जननि, ज्योतिर्मय निर्झर;
कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर
 जगमग जग कर दे ।।2।।
नव गति, नव लय, ताल-छंद नव
नवल कंठ, नव जलद-मन्द्ररव;
नव नभ के नव विहग-वृंद को
 नव पर, नव स्वर दे !
वर दे, वीणावादिनि वर दे ।।3।।

- यह हिन्दी वन्दना कवि निराला जी ने रचा है.





सरस्वती देवी को शारदे, पुस्तका धारणी, वीणापानी, भारती, विद्यादायनी, वर्धनायाकी, सावत्री एवं गायत्री नाम से भी जानते है। भारत में सरस्वती जी के मंदिर गोदावरी नदी के किनारे बसार में, तेलांगना में मेदक में है. सरस्वती जी के ब्राह्मणी के रूप में गुजरात, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और उत्तरप्रदेश में मंदिर है. केरल में सरस्वती जी का प्रसिध्य मंदिर दक्षिणा मूकाम्बिका है और तमिलनाडु में कूथानुर मंदिर है.  

संबंधित जानकारियाँ-




अगर आपके पास कोई प्रश्न है, तो निचे Comment करें। यदि आप इस Article को उपयोगी पाते हैं, तो इसे अपने दोस्तों के साथ Share करें।


सरस्वती प्रार्थना | Popular Saraswati prayers in hindi (lyrics) सरस्वती प्रार्थना | Popular Saraswati prayers in hindi (lyrics) Reviewed by AwarenessBOX on 11:21 Rating: 5

No comments

Share