सरस्वती मंत्र और इनके लाभ | Saraswati mantra

ज्ञान और विद्या प्राप्ति के लिए चमत्कारी सरस्वती मंत्र | Saraswati mantras


सरस्वती देवी ने ही मनुष्य को भाषा प्रदान की है। ज्ञान और विद्या पाने के लिये स्टूडेंट्स से लेकर बड़े लोग तक सरस्वती माता की उपासना वंदना और मंत्र से करते है। सरस्वती वंदना या प्रार्थना नियमित पूजा श्लोक का हिस्सा है और सरस्वती मंत्र या सरस्वती सूक्तम 'ऋग्वेद' में है जो की पूरी तरह से अलग है। ये प्रचलित मंत्र अर्थ सहित यहाँ दी गई है.

Saraswati-mantra-Sanskrit-Hindi

सरस्वती मंत्र के लाभ - Benefits of Saraswati Mantra

सरस्वती मंत्र के नियमित जाप से पढ़ाई में एकाग्रता, वाणी और याददाश्त में सुधार होता है। फलस्वरूप यह जानकारी को आसान और लंबे समय तक चलने वाला बनाता है। सरस्वती मंत्र के समर्पित पाठ से छात्र को अपनी परीक्षा पास करने में मदद मिल सकती है। यहां तक कि उच्च अध्ययन और शोध कार्य के लिए इच्छुक लोगों को सरस्वती मंत्र से काफी लाभ हो सकता है। कलाकार, कवि, लेखक और सार्वजनिक वक्ता सरस्वती मंत्र की मदद से नई ऊँचाइयों तक पहुँच सकते हैं।

चमत्कारी सरस्वती मंत्र | Miracle Saraswati Mantra  :





1. सरस्वती बीज मंत्र

देवी सरस्वती का आह्वान करने वाला बीज मंत्र "Hreem" और "Shreem" दो शब्दों पर आधारित है।

ॐ ह्रीं श्रीं सरस्वत्यै नमः।
ॐ ऎं सरस्वत्यै ऎं नमः।।

अर्थ: देवी सरस्वती को प्रणाम।
लाभ: सरस्वती के इस मंत्र का जाप करने से बुद्धि और वाणी की शक्ति बढ़ती है।

2. सरस्वती ध्यान मंत्र

ॐ सरस्वती मया दृष्ट्वा, वीणा पुस्तक धारणीम्।
हंस वाहिनी समायुक्ता मां विद्या दान करोतु में ॐ।।

3. सरस्वती विद्या मंत्र

सरस्वति नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणि।
विद्यारम्भं करिष्यामि सिद्धिर्भवतु मे सदा।।

लाभ: इससे स्मृति, अध्ययन में शक्ति और एकाग्रता में सुधार होता है।

4. श्री सरस्वती पुराणोक्त मंत्र

या देवी सर्वभूतेषु विद्यारूपेण संस्थिता। 
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

5. सरस्वती मंत्र शक्तिशाली वाणी के लिए

इस सरस्वती मंत्र का एक लाख बार पाठ करें। इस सरस्वती मंत्र का पाठ करने से व्यक्ति बहुत सारा ज्ञान प्राप्त कर प्रसिद्ध हो जाता है।

वद वद वाग्वादिनी स्वाहा।।

अर्थ : वाग देवी, मुझ पर वाणी की शक्ति को श्रेष्ठ करो।

लाभ: ठीक से ना बोल पाने वाले बच्चों के लिए, इस मंत्र का नियमित रूप से जाप करने से उचित वाणी प्राप्त करने में मदद मिलती है और भविष्य में उनके संचार कौशल में भी सुधार होता है।



6. बुद्धि बढ़ाने के लिए सरस्वती मंत्र

ॐ ऐं ह्रीं श्रीं वाग्देव्यै सरस्वत्यै नमः।

इस सरस्वती मंत्र का एक लाख बार पाठ करें। इस सरस्वती मंत्र का पाठ करने से बुद्धि, रचनात्मकता और ज्ञान में वृद्धि होती है।

7. ज्ञान के लिए सरस्वती मंत्र

सरस्वति महाभागे विद्ये कमललोचने।
विद्यारूपे विशालाक्षि विद्यां देहि नमोस्तुते।।

अर्थ : मुझ पर श्रेष्ठ ज्ञान और विद्या की प्राप्ति के लिए देवी को प्रणाम।

लाभ: इस मंत्र को नियमित रूप से भक्ति के साथ जप करने से पूर्ण ज्ञान प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। जिन्हें सीखने में कठिनाई होती है वे इस मंत्र का सहारा ले सकते हैं।

8. सरस्वती गायत्री मंत्र

ॐ ऐं वाग्देव्यै विद्महे कामराजाय धीमहि। तन्नो देवी प्रचोदयात्।।

अर्थ : मुझे वाणी की देवी का ध्यान करने दो। हे भगवान ब्रह्मा की पत्नी, मुझे उच्च बुद्धि प्रदान करें, और देवी वाणी मेरे मन को प्रकाशित करें।

लाभ: इस मंत्र का जाप करने से छात्रों की क्षमताओं को तेज किया जा सकता है और परीक्षा और अन्य कार्यक्रमों से पहले घबराहट महसूस करने वालों के होश को शांत किया जा सकता है।

9. निर्भयता के लिए सरस्वती मंत्र

महो, अर्णः सरस्वती प्रचेयति केतुना, धियो विश्व विराजति।।

अर्थ: दिल से सभी अनावश्यक भय को दूर करने और अधिक ज्ञान और बुद्धि के साथ मन को प्रसन्न करने में मदद करें।

लाभ: यह मंत्र ज्ञान साधकों के मन को रोशन करने और नए सांसारिक अनुभवों के भय को दूर करने के लिए देवी सरस्वती को समर्पित है।

सरस्वती देवी को शारदे, वीणापानी, भारती, पुस्तक धारणी, विद्यादायनी, वर्धनायाकी, सावत्री एवं गायत्री नाम से भी जाना जाता है। सरस्वती माता बहुत ही कोमल तथा सरल स्वाभाव की मानी जाती है तथा इनको पवित्रता का प्रतिनिधित्व करने वाले शुद्ध सफेद कपड़े पहने एक सुंदर महिला के रूप में दर्शाया गया है। 

ज्ञान और सत्य के प्रतीक श्वेत हंस पर विराजमान है, एक हाथ वीणा को पकड़े हुए हैं, जिसमें से सारी रचनात्मकता बहती है. सरस्वती माँ के चार हाथों में से एक में पुस्तक तो एक में माला, एक में पानी का कमंडल है। इनके हाथों में पुस्तक वेदों को दर्शाती है। स्वान पक्षी इनके पैरों के पास होता है। यह एक पवित्र पक्षी है, जो दूध और पानी के मिश्रण से सिर्फ दूध पीता है।



सरस्वती माता की पूजा कैसे करनी चाहिए -

ज्ञान और वाणी के बिना संसार की कल्पना करना संभव नहीं है। माता सरस्वती ज्ञान और वाणी की देवी हैं। इसलिए मनुष्य ही नहीं, देवता और असुर भी माता की भक्ति भाव से पूजा करते हैं। पूजा के दिन लोग अपने अपने घरों या पूजा पंडालों में माता की प्रतिमा की पूजा करते हैं। पूजा समितियों के द्वारा भी इनकी पूजा का भव्य आयोजन किया जाता है। 

सरस्वती पूजा करते समय सबसे पहले सरस्वती माता की तस्वीर अथवा प्रतिमा को सामने रखना चाहिए। इसके बाद कलश स्थापित करके गणेश जी तथा नवग्रह की विधिवत् पूजा करने के बाद माता सरस्वती की पूजा करें। सरस्वती माता की पूजा करते समय उन्हें सबसे पहले आचमन और स्ना कराएं।

इसके बाद माता को फूल, माला और फल चढ़ाएं। सिन्दूर, अन्य श्रृंगार की वस्तुएं भी अर्पित किया जाना चाहिए।

संबंधित जानकारियाँ-





अगर आपके पास कोई प्रश्न है, तो निचे Comment करें। यदि आप इस Article को उपयोगी पाते हैं, तो इसे अपने दोस्तों के साथ Share करें।


सरस्वती मंत्र और इनके लाभ | Saraswati mantra सरस्वती मंत्र और इनके लाभ | Saraswati mantra Reviewed by AwarenessBOX on 13:35 Rating: 5

2 comments

  1. मैं अपनी परीक्षाओं में सफलता के लिए मां सरस्वती जी की आराधना कैसे करुं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सरस्वती गायत्री मंत्र और सरस्वती वंदना का पाठ करें.

      Delete

Share